पृष्ठ

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 29 मार्च 2011

अब कैसे नव सृजन हो ?...................100 वीं पोस्ट

शब्द निराकार हो गए
अर्थ बेकार हो गए
अब कैसे नव सृजन हो ?

चिंतन बिखर गया
आस की ओस
हवा मे ही
खो गयी
निर्विकारता
निर्लेपता का
आधिपत्य हो गया
अब कैसे नव सृजन हो ?

ह्रदय तरु पर
कुंठाओ का पाला
पड गया
संवेदनायें अवगुंठित
हो गयीं
दृश्य अदृश्य हो गया
अब कैसे नव सृजन हो?

शून्यता मे आरुढ
हर आरम्भ और अंत
भेदभाव विरहित
आत्मानंद
सृष्टि का विलोपन
अब कैसे नव सृजन  हो?

रविवार, 27 मार्च 2011

निस्वार्थ्

कभी कभी शब्द एक खेल बन जाते हैं दिल और दिमाग के बीच ……कभी दिल के हाथ बिकते हैं तो कभी दिमाग के हाथों नीलाम होते हैं.………पर क्या कभी शब्दो को सही मुकाम हासिल होता है? क्या शब्दों की अपनी दुनिया मे उनका कोई निज़ी अस्तित्व होता है जब तक की अभिव्यक्त ना हो जायें ……किसी के हाथ की कठपुतली ना बन जायें तब तक शब्द सिर्फ़ शब्द बन कर ही रह जाते हैं …………अस्तित्व होते हुये भी अस्तित्वहीन …………क्या स्त्री और शब्दों मे कोई समानता है? शायद हाँ, तभी अपने स्वतंत्र अस्तित्व होते हुये भी अपनी पह्चान के लिये किसी के हाथों की कठपुतली बन जाते है दोनो………शायद दोनो का एक ही स्वभाव है………दूसरे को पहचान देना…………दूसरे के भावो को स्वंय मे समाहित करना और बिखर जाना…………खुद को मिटा देना मगर अपना जीना सार्थक कर देना ……………शायद ज़िन्दगी ऐसे भी जी जाती है ……निस्वार्थ्।

बुधवार, 23 मार्च 2011

मुझे भी अपना बना लेना

पुकारना नही आता
पूजन नही आता
वन्दन नही आता
नमन नही आता
बस
स्मरण करना
व्याकुल होना
और अश्रु बहाना
यही मेरी पूंजी है
मोहन ये आह
क्या तुम तक
पहुंचती है?
क्या तुम्हे भी
याद आती है
क्या तुम भी
विरह मे
तडपते हो?
निर्विकार
निर्मोही
निर्लेप हो
जानती हूँ
फिर भी
सुना है
किसी के लिये
तुम भी तड्पते हो
उस किसी मे
एक नाम मेरा भी
जोड लेना
राधा नही बनना
बस बंसी बना
अधरों पर
सजा लेना
मुझे भी
श्री अंग लगा लेना
प्राण रस फ़ूंक देना
अमृत रस बरसा देना
श्याम ,मुझे भी
अपना बना लेना



ये उस दिन सुबह लिखी गयी थी जिस दिन जापान मे सुनामी का कहर बरपा था और शायद एक कहर इस तरह मेरे दिल पर भी बरपा था या शायद आगत का कोई संदेशा था ये और दिल से ये उदगार फ़ूट पडे।

रविवार, 20 मार्च 2011

मै तो हर मोड पर उनको ढूँढा सदा्

मै तो हर मोड  पर
उनको ढूँढा सदा्
होली के बहाने
रंगो को लगाने
ना जाने कौन गली
छुपे हैं सांवरिया
किस बैरन ने
छुपाय लीन्हो
सजनवा हमार
हरण कर लीन्हो
कोई तो पता
बताय दीन्हो
होली म्हारी
सरस कर दीन्हो

टेसू के फ़ूल
कुम्हला गये हैं
अबीर गुलाल भी
रोने लगे हैं
सजन के बिन
मायूस हुये हैं
अब तो पता
बताय दो गुजरिया
फ़ाग को रंग
चढाय दो गुजरिया
हमका सजन से
मिलाय दो गुजरिया
प्रीत रस मे
भीजन दो गुजरिया
हमका सांवरिया से
मिलाय दो गुजरिया
आज प्रेम अटरिया
चढ्न दो बावरिया
होली के बहाने
प्रेम की होली
खेलन दो गुजरिया
श्याम को मेरा
होने दो गुजरिया

गुरुवार, 17 मार्च 2011

आज बिरज मे होरी रे रसिया

आज बिरज मे होरी रे रसिया-2-
मेरे  बिरज मे ना हुई बरजोरी रे रसिया

मै भी प्रेम रंग घोल के बैठी
श्याम मिलन की आस मे बैठी
मुझ संग हुई ना ठिठोली रे रसिया
आज बिरज मे होरी रे रसिया-2-

श्याम रंग की मै हूँ दीवानी
मीरा सी नाचूँ मस्तानी
मुझ संग होरी ना खेले रे सांवरिया
आज बिरज मे होरी रे रसिया

शनिवार, 12 मार्च 2011

कैसे खेलूँ मैं कन्हाई

कैसे खेलूँ मैं कन्हाई 
तेरे संग प्रीत की होरी 

ब्रज गोपियाँ  
ढूँढें गली गली 
प्रेम की ओढ़ चुनरिया 
 यहाँ वहां जहाँ तहां देखा
मिला न श्याम सलोना  
 जा बैठा छुप के 
मैया के आँचल में
कैसे ढूंढूं मैं कन्हाई 
कैसे खेलूँ मैं कन्हाई
तेरे संग प्रीत की होरी  


श्याम रंग की 
भर पिचकारी 
जब सखियों ने मारी
मैं भी हो गयी श्याम रंग में 
मैं भी रंग गयी श्याम रंग में
सुन मेरे ओ कन्हाई
अब तो आ जा रे सांवरिया
अब तो मिल जा रे सांवरिया
कैसे खेलूँ मैं कन्हाई
तेरे संग प्रीत की होरी 


प्रीत की रीत मैं नाही जानूं 
होरी को बन गयो बहानो 
श्याम से मिलने है जानो 
अब न चलेगो कोई बहानो
आ जा आ जा रे सांवरिया
गले लगा जा रे सांवरिया
श्याम रंग में भिगो जा रे सांवरिया
दुल्हनिया अपनी बना जा रे सांवरिया
प्रेम रस पिला जा रे सांवरिया
फाग मेरी भी मना जा रे सांवरिया
होरी की रीत निभा जा रे सांवरिया
पूरण कर जा हर आस रे सांवरिया
छूटे अब ये भव त्रास रे सांवरिया
होरी का रंग ऐसा चढा जा रे सांवरिया
सुध बुध खो बन जाऊँ जोगनिया
मै तेरी तू मेरा बन जाये रे सांवरिया
इक दूजे मे खो जायें रे सांवरिया
रंग मे रंग मिल जाये रे सांवरिया
इक रंग हो जायें रे सांवरिया 
होरी हो जाये सार्थक रे सांवरिया
प्रीत चढ जाये गगन रे सांवरिया

मंगलवार, 8 मार्च 2011

कान्हा कान्हा
मै जोगन बन जाऊंगी
तेरे प्रेम मे
मै जोगन बन जाऊँगी

श्याम प्यारे मोहन प्यारे
रटती रही नाम तुम्हारे
अब तुम बिन कटते नही
दिन रैन हमारे
इक बार आ जाओ
मोहन प्यारे
गले से लगा जाओ
श्याम सखा रे
कान्हा कान्हा
मै जोगन बन जाऊंगी


कर में लेकर इकतारा
प्रेम दीवानी मीरा बन जाऊँ
श्याम नाम की रटना लगाऊं
श्याम धुन में हो मतवाली
गली गली नाचूं
बन श्याम दीवानी
कान्हा कान्हा
मैं जोगन बन जाउंगी



मंगलवार, 1 मार्च 2011

वक्त वक्त की बात है

अरे शिखा कहाँ भागी जा रही है ? ढंग से चप्पल तो पहन ले और फिर बैठकर आराम से नाश्ता कर ले. ये क्या तरीका है भागते- भागते एक कौर मूंह  में और एक हाथ में और दूसरे हाथ में सामान. ये कोई तरीका है कितनी बार कहा है आराम से बैठकर खाया कर मगर तू तो सुनती ही नहीं है. उमा बोले जा रही थी और शिखा फटाफट काम करती जा रही थी और हंसती जा रही थी, अरे माँ, क्यूँ परेशान हो रही हो ? मैंने खा लिया है तुम्हें तो पता है न देर हो रही है और देर से ऑफिस जाउंगी तो डांट पड़ेगी शिखा कहती रही मगर उमा तो अपने ही ख्यालों में थी . बोली , "न जाने क्या होगा तेरा मुझे तो समझ ही नहीं आता, कैसे तेरा गुजारा होगा ? अरे पराये घर भी जाना है , यहाँ तो मैं हूँ सब कुछ पका -पकाया तैयार मिलता है वहां तो तुझे ही सब करना भी पड़ेगा और खुद को जाना भी होगा तब कैसे करेगी"? 
शिखा बोली,"ऐसा कुछ नहीं होगा ,देख लेना, सभी तो होंगे , मिलजुलकर करेंगे तो जल्दी से हो जायेगा सुनते ही उमा बोली , कौन से ख्वाब में जी रही है मेरी बिटिया , आज तक तो मैंने देखा नहीं एक भी ऐसा घर, बस घर की बहू ही सबके लिए काम करे और कमाकर भी लाये . इस पर शिखा बोली, माँ तुम देखना, अब ऐसा कुछ नहीं होने वाला . आज सब  अपना- अपना काम खुद  करते हैं और वहां भी सभी को करना होगा . वो किसी अनोखी मिटटी के नहीं बने जैसे मैं वैसे वो. और फिर आजकल काफी से ज्यादा काम तो मशीनों से ही हो जाते हैं . तुम चिंता मत करो. इस पर उमा बोली , "चिंता ! तेरी तो सबसे ज्यादा चिंता है . खुद को कुछ आता है नहीं कैसे सबको खुश रखेगी? और पति का भी ध्यान रखना पड़ेगा तुझे ही .....सुनते ही शिखा खिलखिलाकर हंस पड़ी और बोली, "मैं ख्याल रखूँगी "? क्यूँ क्या वो कोई दूध पीता बच्चा होगा? सुनकर उमा बोली, " कैसी बात करती है ? पति की जरूरतों का ध्यान रखना ही तो पत्नी का फ़र्ज़ होता है . उसके काम तो करने ही पड़ते हैं".
इतना  सुनना था कि शिखा तिलमिला कर बोली , क्यूँ उसके काम करूँगी, मैं क्या कोई उसकी गुलाम होंगी जो काम करूँगी. अरे माँ, ये बताओ मुझमे क्या कमी है जो मैं घर और बाहर दोनों जगह अपने को पीसती रहूँगी . अच्छे ओहदे पर हूँ , अच्छी तनख्वाह है , किस बात की कमी है मुझमे. और फिर आजकल पति और पत्नी दोनों को मिल जुलकर ही काम करना पड़ता है और करना भी चाहिए तभी ज़िन्दगी आराम से गुजरती है . 
सुनकर उमा बोली , कैसी बातें करती है शिखा , मुझे तो कभी -कभी डर लगता है पता नहीं तेरी कैसे निभेगी? बराबरी  करने से  कुछ नहीं होता .......कितना भी ऊँचा ओहदा हो हर औरत को घर के कामकाज , देखभाल करनी ही पड़ती है . आखिर वो भी तो पैसा  लाता  है घर में  और उसका घर होता है तो क्यूँ नही चाहेगा तुम से ऐसी अपेक्षा कहकर उमा शिखा का मुँह ताकने लगी. माँ , पैसे लाने से ही सब कुछ नहीं होता मैं भी तो लाती हूँ . बराबर के अधिकार और कर्त्तव्य होते हैं दोनों के. कोई छोटा बड़ा नहीं होता पति- पत्नी के रिश्ते में . अब ये बताओ तुमने अपनी बेटी में ऐसी कौन सी कमी देखी जो वो किसी के आगे झुकेगी. जितना वो अपने बेटे पर पैसा खर्च करते हैं क्या तुमने उससे किसी भी तरह कम पैसा खर्चा किया है क्या ? क्या उन लोगों से कम शिक्षा दिलवाई है ? या मुझमे किसी तरह की कोई कमी है ? जब मुझमे कोई कमी नहीं है तो तुम क्यों चिंता करती हो . अब वो ज़माने नहीं रहे . आज स्त्री और पुरुष दोनों कदम से कदम मिलाकर चलते हैं तभी सफलता पाते हैं और तुम देखना मेरे साथ ऐसा ही होगा और बहुत खुशहाल जीवन होगा हमारा . तुम निश्चिन्त रहो , इतना कहकर शिखा तो चली गयी मगर उमा अपनी ही उधेड़बुन में पड़ी रही . उसे चिंता सताती कि इसके ऐसे विचारों के कारण न जाने कैसे इसकी निभेगी ?

मगर वक्त अपनी रफ़्तार से चलता है . शिखा ने जो कहा वो ही करके दिखाया  भी . आज शिखा और रोहित दोनों ही खुशहाल जीवन जी रहे हैं . मिलबाँट कर काम करते हैं बच्चों को भी अच्छी परवरिश दे रहे हैं ये देखकर उमा ख़ुशी से फूली नहीं समाती और सोचती वक्त के साथ सब बदलता है फिर चाहे  सामाजिक मान्यताएं हो या इंसानी सोच. उनके वक्त में तो ऐसा सोच भी नहीं सकते थे मगर आज की पीढ़ी काफी व्यावहारिक हो गयी है और एक दूसरे की जरूरतों को समझती है तभी इतनी कुशलता से घर , ऑफिस , बच्चों और समाज में तालमेल बैठा लेती है . आज की पीढ़ी की कार्यकुशलता , ऊर्जा और हिम्मत देख उमा की सारी सोच को विराम मिल गया था और भविष्य के प्रति वो आश्वस्त हो चुकी थी.