पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 7 मई 2016

क्या है कोई हल

ये जानते हुए भी
कि
तुम ही हो मेरे
तर्क वितर्क
संकल्प विकल्प
आस्था अनास्था
फिर भी
आरोप प्रत्यारोप से नहीं कर पाती ख़ारिज तुम्हें

ऊँगली तुम पर ही उठा देती हैं मेरी चेतना
और तुम
प्रश्नचिन्ह का वो कटघरा बन जाते हो
जो किसी उत्तर का मोहताज नहीं

ये कैसा बनवास है मेरा और तुम्हारा
जहाँ न मिलन है न जुदाई
फिर भी मन और बुद्धि के धधकते लावे में छिपी है रुसवाई

क्या है कोई हल मेरे तुम्हारे इस झगडे का .......कहो तो ओ कृष्ण ?


4 टिप्‍पणियां:

Vaanbhatt ने कहा…

बहुत खूब...

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (09-05-2016) को "सब कुछ उसी माँ का" (चर्चा अंक-2337) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
मातृदिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

गिरधारी खंकरियाल ने कहा…

एक ही हल है उसकी उंगलियो पर नाचते रहो।

Raj. Sing Rathore ने कहा…

न ही हल मिला हे