पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

सोमवार, 12 सितंबर 2016

मैं पथिक

मैं पथिक
*********
मैं पथिक किस राह की
ढूँढूँ पता गली गली
मैं विकल मुक्तामणि सी
फिरूँ यहाँ वहाँ मचली मचली

ये घनघोर मेघ गर्जन सुन कर
ह्रदय हुआ कम्पित कम्पित
ये कैसी अटूट प्रीत प्रीतम की
आह भी निकले सिसकी सिसकी

ओ श्यामल सौरभ श्याम बदन
तुम बिन फिरूँ भटकी भटकी
गह लो बांह मेरी अब मोहन
कि साँस भी आयेअटकी अटकी

तुम श्याम सुमन मैं मधुर गुंजन
तुम सुमन सुगंध मैं तेरा अनुगुंजन
ये सुमन सुगंध का नाता अविरल
कहो फिर क्यों है ये भेद बंधन

तुम बिन मन मयूर हुआ बावरा
कातर रूह फिरे छिटकी छिटकी
अब रूप राशि देखे बिन
चैन न पाए मेरी मन मटकी मटकी

3 टिप्‍पणियां:

Digamber Naswa ने कहा…

सुन्दर .... कान्हा प्रेम में रची सी ....

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (13-09-2016) को "खूब फूलो और फलो बेटा नितिन!" (चर्चा अंक-2464)) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सुन्दर गीतमय रचना .