पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 23 मई 2017

संवाद के आखिरी पल

संवाद के आखिरी पलों में
नहीं झरते पत्ते टहनियों से
नहीं करती घडी टिक टिक
नहीं उगते क्यारियों में फूल

रुक जाता है वक्त
सहमकर
कसमसाकर
कि
नाज़ुक मोड़ों पर ही अक्सर
ठहर जाती है कश्ती

कोई गिरह खुले न खुले
कोई जिरह आकार ले न ले
बेमानी है
कि
हंस ने तो उड़ना ही अकेला है

ये तमाशे का वक्त नहीं
ये माफीनामे की कवायद नहीं
ये धीमे से गुजरने की प्रक्रिया है
जहाँ
साँस रोके खडी होती है हवा भी
कि
हिलने से न हो जाए कहीं तपस्या भंग

संवाद के आखिरी पल
किसी कृष्ण का मानो प्रलय में पत्ते पर अंगूठा चूसते हुए मुस्कुराना भर ही तो है

कोई टिप्पणी नहीं: