पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 17 जून 2018

मैं बनूँ सुवास तुम्हारी कृष्णा


मैं बनूँ सुवास तुम्हारी कृष्णा
करो स्वीकार मेरी ये सेवा

जाने कितने युग बीते
जाने कितने जन्म रीते
पल पल खाए मुझे ये तृष्णा
मैं बनूँ सुवास तुम्हारी कृष्णा

जाने कब बसंत बीता
जाने कब सावन रीता
चेतनता हुई मलीन कृष्णा
मैं बनूँ सुवास तुम्हारी कृष्णा

जाने कितनी प्यासी हूँ
जन्म जन्म की दासी हूँ
चरण शरण आई कृष्णा
मैं बनूँ सुवास तुम्हारी कृष्णा

(एक बहुत लम्बे अंतराल बाद कान्हा ने बाँसुरी बजाई)

कोई टिप्पणी नहीं: