पृष्ठ

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 16 सितंबर 2011

कृष्ण लीला ---------भाग 13

जाकर योगी बैठ गया ध्यान में
कर रहा करुण पुकार है
भोले नाथ ध्यान में विनती करते हैं
प्रभु दर्शन को नैना तरसते हैं
क्या इतने पास होकर भी
दर्शन नहीं होंगे
अविरल धार अँखियों से बहती है
सुन कर करुण पुकार
कान्हा मचल गए
भक्त के आँसुओं पर
भगवान रीझ गए
कैसे भक्त को रोता देख सकते थे
इसलिए साथ देने को
खुद ने भी रुदन मचाया है
जिसे देख यशोदा का मन घबराया है
मैया ने हर उपाय किया
मगर कान्हा का ना
रुदन बंद हुआ
नन्द बाबा को जब पता चला
हकीम  वैद्य का हर उपचार किया
जाने कितने टोटके किये
मगर सभी बेअसर रहे
नज़रें कितनी उतारी हैं
मगर कान्हा का मुँह
खुला तो खुला ही रहा
देख मैया बाबा परेशान हुए
रात सारी आँखों में कट गयी
सुबह शांडिल्य ऋषि आये हैं
दोनों पति -पत्नी चरणों में गिर गए
देखो गुरुदेव लाला चुप ना होता है
सुन बाबा ने भी सभी उपाय किये
मगर लाला का रुदन चलता रहा
ये देख शांडिल्य मुनि को अचरज हुआ
मेरा उपाय ना कभी निष्फल हुआ
आज कौन सा नया कारण हुआ
सोच  मुनि ने ध्यान किया
आँखों के आगे भोलेनाथ का दर्श किया
माजरा सारा समझ गए
आँख खोल पूछने लगे
यहाँ कोई आया था क्या
सुन यशोदा बोल पड़ी गुरुदेव
इक जोगी आया था
विकराल वेश उसने बनाया था
 
बस तभी से तो लाला रोता है
सुन मुनि ने कहा
जाकर उसको बुला लाओ
वो ही तुम्हारे लाला को
चुप करावेगा
अन्यथा धरती पर नहीं है कोई
जो उसे चुप करा सके
माँ- बाप का प्यार हार गया
पुत्र मोह में मैया ने
अपना हठ त्याग दिया
गोपी पालकी लेकर तुम जाओ
बाबा को आदर सहित ले आओ
गोपी ने जाकर योगी को
मैया का सन्देश सुनाया है
मगर योगी ने तो
समाधि में ध्यान लगाया है
योगी यहाँ होता तो
गोपी की वाणी सुन पाता
वो तो ध्यानमग्न बैठा है
अपने प्रभु के पास 

ध्यान मे ही पहुँचा है
उनसे बातों में उलझा है
क्यूँ प्रभु इतनी देर लगायी है
दास की सुध ना आई है

कौन सा ऐसा अपराध हुआ
जो ना द्वारे पर दर्श हुआ
भाव विह्वल भोलेनाथ 
अविरल अश्रु बहाते हैं
इधर गोपी आवाज़ें लगाती है
पर भोले बाबा के कान तक
ना पहुंच पाती है
जब बाबा ने ना कुछ सुना
तब गोपी ने योगी को
पकड़ के हिला दिया
बाबा मैया बुलाती है , संदेसा दिया
पालकी भिजवाई है
तुम्हारी हठ के आगे हारी है
सुन महादेव मुस्कुराये हैं
मन ही मन में सोचते हैं

वाह रे प्रभु !
तुम्हारी लीला न्यारी है
कभी द्वार आये को धकियाते हो
कभी पालकियों में बुलवाते हो

मन ही मन नमन करते हैं
और गोपी की वाणी
सुन जोगी प्रफुल्लित हुआ
प्रभु के पास जाने को
पैदल ही उद्यत हुआ 



क्रमश:……………

16 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

वाह रे प्रभु !
तुम्हारी लीला न्यारी है
कभी द्वार आये को धकियाते हो
कभी पालकियों में बुलवाते हो
मन ही मन नमन करते हैं
और गोपी की वाणी
सुन जोगी प्रफुल्लित हुआ
प्रभु के पास जाने को
पैदल ही उद्यत हुआ
aankhon se ek dhaara prawahit ho uthi

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

कृष्ण लीला का रोचक वर्णन ..

सदा ने कहा…

बहुत ही अच्‍छा प्रयास ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत ही अलौकिक और दिव्य प्रसंग|

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

भक्ति में सरोबार करती आपकी कृष्ण लीला अच्छी लग रही है. बहुत सुन्दर लीला वर्णन.

रेखा ने कहा…

कृष्ण -लीला का सुन्दर और रोचक वर्णन .....आपकी कृपा से हमें भी पढ़ने का मौका मिल रहा है

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर!
भकितरस का यह कारवाँ बढ़िया चल रहा है!
अगले पड़ाव की प्रतीक्षा है!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

कृष्णलीला का आनन्द उठा रहे हैं।

Sapna Nigam ( mitanigoth.blogspot.com ) ने कहा…

कभी द्वार आए को धकियाते हो,
कभी पालकियों में बुलवाते हो.

बहुत ही सुंदर कृष्ण लीला का वर्णन.

दीपक बाबा ने कहा…

आनंदम ...

हिन्दी हाइकु ने कहा…

कृष्ण लीला का रोचक वर्णन ..

किसी का दर्द हमें तकलीफ देता है ने कहा…

वाह... अलौकिक और दिव्य
नमन

about us:

Jansunwai is a NGO indulged in social awareness going to publish a book with content from blog writers. ( for details pls check this link http://jan-sunwai.blogspot.com/2011/09/blog-post_17.html )

Our blog www. jan-sunwai.blogspot.com is a platform for writers as well as for the people looking for legal help.In appriciation of the quality of some of your content we would love to link your content to our blog under your name, so that you can get the credit for the content.

Kindly check http:// www. jan-sunwai.blogspot.com and the content shared by different people at the blog, pls reply if you are intersted in it through a comment on our blog or reply at jansunwai@in.com

Regards.

bhola.krishna@gmail .com ने कहा…

आज पहली बार कृष्ण लीला देखी ! केवल एक भाग ही पढ पाये ! वर्णन सरस लगा ! भोला - कृष्णा

Rakesh Kumar ने कहा…

भक्त के आँसुओं पर
भगवान रीझ गए
कैसे भक्त को रोता देख सकते थे
इसलिए साथ देने को
खुद ने भी रुदन मचाया है
जिसे देख यशोदा का मन घबराया है

वाह! वंदना जी वाह!

भक्त की महिमा न्यारी है.

माता यशोदा और क्या करतीं.

Rakesh Kumar ने कहा…

भक्त के आँसुओं पर
भगवान रीझ गए
कैसे भक्त को रोता देख सकते थे
इसलिए साथ देने को
खुद ने भी रुदन मचाया है
जिसे देख यशोदा का मन घबराया है

वाह! वंदना जी वाह!

भक्त की महिमा न्यारी है.

माता यशोदा और क्या करतीं.

anu (anju choudhary) ने कहा…

bahut khub....krishn lila ka khubsurat varnan