पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 12 नवंबर 2013

सांवरे की प्रीत संग मैने बांध ली है डोरी

सांवरे की प्रीत संग मैने बांध ली है डोरी                                                     
अब मर्ज़ी तुम्हारी नैया पार लगाओ या मझधार मे डुबा दो मोरी
प्रीत की रीत मैं नही जानूँ
पूजा पाठ की विधि ना जानूँ
और कोई राह ना जानूँ
सांवरे इक तेरे नाम के सिवा
और ना कोई नाम ना जानूँ
अब मर्ज़ी तुम्हारी
हाथ पकडो या छोड दो मुरारी
मै तो जोगन बनी तिहारी
मुझे ना भाये दुनिया सारी

                                                                                            

 तुम बिन  ठौर ना पाये दीवानी
                                                                                                    
भई बावरी प्रीत बेचारी
                                                                                                    
 दर दर भटके मीरा बेचारी
                                                                                                     
कहीं ना मिलते कृष्णमुरारी

                                                                                                   
कैसे आये चैन जिया मे

                                                                                                     श्याम बिन अंखियाँ बरस रही हैं
                                                                                                     श्याम दरस को तरस रही हैं
                                                                                                     श्याम रंग मे डूब गयी हैं
                                                                                                     श्याम ही श्याम हो गयी हैं
                                                                                                     
    और कोई रंग नही है
                                                                                                       और कोई ढंग नही है
                                                                                                       जीवन तुम बिन व्यर्थ गया है
                                                                                                        जीने का ना कोई अर्थ रहा है
                                                                                                         श्याम सुधि ना बिसरायो
                                                                                                        इक बार दरस दिखा जाओ
                                                                                                          ह्रदयकमल मे आ जाओ

5 टिप्‍पणियां:

अजय कुमार झा ने कहा…

आपकी कमाल की कृष्णमय शैली की एक और सुंदर पोस्ट , पोर पोर तक कृष्ण प्रेम के स्नेह से सराबोर । बहुत सुंदर ...जारी रहिए

अजय कुमार झा ने कहा…

और हां आपकी घनघोर वार्निंग पढ के जा रहे हैं जी , विदाउट परमीसन वाला , अरे हमने खुद कई बार टराई मारा आपकी एक पोस्ट से एक कतरा उठा कर बुलेटिन में टांकने के लिए , मगर मजाल है कि टस से मस नहीं होते हैं जी :) :) :) अब हम लिंक ही पूरा उठाए लिए जाते हैं जब तब ..विद हेडलाइंस जी :) :)

vandana gupta ने कहा…

@अजय कुमार झा हुजूरेवाला आप कहें तो आपके नाम कर दें सारा ब्लोग :) आपके लिये थोडे है ये वार्निंग :)

Vaanbhatt ने कहा…

कृष्ण का संसार ही ऐसा निराला है...सब-कुछ, सुध-बुध खो बैठता है...चाहने वाला...सुन्दर रचना...

Digamber Naswa ने कहा…

कान्हा के प्रीत में डूब के लिखी वन्दना ...
जैसे सुध बुद्ध खो गई हो ... भाव पूर्ण लेखन ...