पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 29 अप्रैल 2010

एक सत्य ---------५० वीं पोस्ट

प्यार
इश्क 
मोहब्बत
प्रेम 
सब 
कर 
लिया
मगर 
फिर
भी 
खुदा
ना मिला 
जब 
खुद 
को
नेस्तनाबूद 
किया
 तब
"मैं "
ना 
मिला
बस 
"खुदा "
ही 
था 
वहाँ

21 टिप्‍पणियां:

sangita puri ने कहा…

सही है !!

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

bhut sachhi baat kahi aapne jab tak mai ka saarajy rahta hai uska abhaas hota hai aur jab mai khatm hota hai uska ki vaas dikhta hai
saadar
praveen pathik
9971969084

Dr. Zakir Ali Rajnish ने कहा…

सचमुच सत्य।
--------
गुफा में रहते हैं आज भी इंसान।
ए0एम0यू0 तक पहुंची ब्लॉगिंग की धमक।

डॉ. महफूज़ अली (Dr. Mahfooz Ali) ने कहा…

बहुत अच्छी लगी यह पोस्ट....

Rakesh Kaushik ने कहा…

comment moderation किसलिए

Rakesh Kaushik ने कहा…

सोलह आने सही "अहम्" ख़त्म तो इंसान क्या ईश्वर से सरोकार भी संभव है

36solutions ने कहा…

इस परम सत्‍य के लिए आभार.

50 वीं पोस्‍ट की शुभकामनांए.

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

बहुत खूब वंदना जी , और फिर ऐसा खुदा किस काम का ?

Unknown ने कहा…

हा हा हा बहुत खूब क्‍या बात कही है बिल्‍कुल सोलह आने सत्‍य, बधाई

Shekhar Kumawat ने कहा…

badhai aap ko is ke liye

kshama ने कहा…

Vandana, bahut achhee,gahan rachna hai..aur yah meelka patthar..50...mubarak ho!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सुन्दर भाव.....इस " मैं " को ही तो खतम करना बहुत मुश्किल है...

M VERMA ने कहा…

बहुत खूब
50वी पोस्ट -- इतनी जल्दी
मुबारक हो

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

"खुदा "
ही
था
वहाँ


सत्य का बोध कराती रचना!
50वीं पोस्ट के लिए बधाई!

Randhir Singh Suman ने कहा…

nice

राज एन.के.वी. ने कहा…

वाह.. क्‍या बात है वन्‍दना जी । आपने तो आज बहुत सुन्‍दर रहस्‍यवादी कविता कह दी जो बहुत ही अच्‍छी लगी । बधाई और साधुवाद ।।

राजा कुमारेन्द्र सिंह सेंगर ने कहा…

अपने भीतर का सत्य खोज पाना आसान नहीं....और इसे बाहर खोज लेना मुमकिन ही नहीं.
५० वीं पोस्ट की बधाई............लेखन को और पचासे प्रदान करें....
जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

Ra ने कहा…

अति सुन्दर सत्य का बोध कराती एक अद्दभुत रचना

http://athaah.blogspot.com/

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

this is one of your best...

congrats for the 50th one.

Udan Tashtari ने कहा…

५० वीं पोस्ट की बहुत बधाई और नेक शुभकामनाएँ. जल्द ऐसे ही बेहतरीन रचनाओं के साथ शतक पूरा करें.

अरुणेश मिश्र ने कहा…

जो पार है
परे है
परात्पर है
वह क्या है ?
सब कुछ पा लेने के बाद
मिलता है
सब कुछ दे देने के बाद ।
वन्दना जी आपने असीम को छू लिया रचना मे ।