पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 10 जून 2010

प्रीत का रंग

प्रीत चदरिया ऐसी ओढ़ी 
हो गयी मैं बेगानी 
अपना पता खोजती डोलूं
बन के मैं दीवानी 
बांसुरी की धुन पर
वन -वन खोजूं
बन के मैं मतवाली
श्याम प्रीत की 
ओढनी ओढ़ के
हो गयीं मैं अनजानी
श्याम के  रंग में 
ऐसी रंग गयीं
हो गयी मैं भी कारी
श्याम रंग की चुनरिया 
पर मैं जाऊं वारी -वारी
प्रीत की  सब रीतें भुला दूँ
तन -मन की सुधि बिसरा दूँ
प्रेम धुन पर ऐसे 
नाचूँ  छम- छम 
होकर मैं  मतवाली

14 टिप्‍पणियां:

kunwarji's ने कहा…

"प्रीत की सब रीतें भुला दूँ
तन -मन की सुधि बिसरा दूँ"

बहुत बढ़िया जी....

कुंवर जी,

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

BAHUT ACCHHI RACHNA. AAPKI RACHNA KAL KE CHARCHAMUNCH KE LIYE CHUN LI GAYI HAI.

ABHHAR.

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

कान्हा प्रेमरस की एक और उम्दा अभिव्यक्ति !

राजकुमार सोनी ने कहा…

आपकी संवेदनाएं काबिले-तारीफ है। आपको प्रेम की इस सुंदर रचना के लिए बधाई।

दिलीप ने कहा…

bahut sundar.....bhakti aur shringaar ka adbhut milan...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

वाह...कान्हा रंग में रंगी...सुन्दर रचना

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

तन -मन की सुधि बिसरा दूँ
प्रेम धुन पर ऐसे
नाचूँ छम- छम
होकर मैं मतवाली
--
प्रीत का रंग बहुत बढ़िया चढ़ा है!
--
पूरी रचना कृष्ण के समर्पण मे रंगी हुई है!
--
इस तरह की रचनाएँ
आप बहुत ही कुशलता से रचतीं है!
बहुत-बहुत बधाई!

Udan Tashtari ने कहा…

सुन्दर गीत!

महफूज़ अली ने कहा…

बहुत सुंदर शब्दों के साथ...सुंदर प्रेमास कविता....

महावीर बी. सेमलानी ने कहा…

सुंदर रचना

ललित शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर भाव लिए हुए अभिव्यक्ति

आभार

आपकी पोस्ट की चर्चा यहां भी है

निर्मला कपिला ने कहा…

बहुत सुन्दर गीत है तुम्हारी सभी रचनाओं मे प्रेम रंग खूब बरसता है आभार

kase kahun?by kavita. ने कहा…

vandana ji aapki prem ras me doobi rachna aapke krishna prem ko bakhubi darshati hai.khoobsurat shabd sanjojan ke liye badhai....

rashmi ravija ने कहा…

प्रेम धुन पर ऐसे
नाचूँ छम- छम
होकर मैं मतवाली
प्रीत के रंग में पूरी तरह डूबी रचना...बहुत ही सुन्दर