पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 14 जनवरी 2011

मेरे मन मधुबन में आओ

मेरे मन  मधुबन में आओ-२-
श्याम हम झूला झूलें रे 


प्रेम के हिंडोले पर मुझको बिठाकर
श्याम प्रीत की पींगे बढ़ावो रे
श्याम हम .............................


रास रंग में मुझको रंगाकर
श्याम प्रीत की माँग सजावो रे
श्याम हम.................................

डर डर जाऊं जब मैं वैरागन 
श्याम प्रेम से गले लगावो रे
श्याम हम ........................

23 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

श्यामभक्ति में सरावोर सुन्दर भजन!
गुनगुनाने में आनन्द आ रहा है!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

लोहड़ी, मकर संक्रान्ति एवं उत्तरायणी की हार्दिक बधाई एवं मंगल कामनाएँ!
--
छत पर जाओ!
पतंग उड़ाओ!

सतीश सक्सेना ने कहा…


बड़ा प्यारा स्नेह आवाहन ....
शुभकामनायें !

रवि कान्त शर्मा ने कहा…

जय श्री कृष्णा....

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर भक्ति गीत

ajit gupta ने कहा…

फाल्‍गुन का रंग चढ़ने लगा है!

रश्मि प्रभा... ने कहा…

chhute na rang aisi... rang hi rang hai isme

sada ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर भावों का संगम ...।

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

mere madhuban mein aao re!

राज भाटिय़ा ने कहा…

लोहड़ी, मकर संक्रान्ति पर हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई

सुज्ञ ने कहा…

प्रेम-श्रद्धा्मय भक्ति गीत!! अभिनन्दन

लोहड़ी,पोंगल और मकर सक्रांति : उत्तरायण की ढेर सारी शुभकामनाएँ।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

कृष्ण को साधिकार बुलाती पंक्तियाँ।

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

मकर संक्रान्ति की हार्दिक बधाई !

nilesh mathur ने कहा…

बहुत ही सुन्दर!

Navin C. Chaturvedi ने कहा…

वंदना गुप्ता जी आपने ब्रज की याद दिला दी| जय हो बांके सँवरिया की|

Kailash C Sharma ने कहा…

bhaktibhav se paripurn sundar bhajan..

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

वंदना जी, बड़ा प्‍यारा गीत है। बधाई स्‍वीकारें।

---------
डा0 अरविंद मिश्र: एक व्‍यक्ति, एक आंदोलन।
एक फोन और सारी समस्‍याओं से मुक्ति।

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

बहुत ही सुंदर रचना.....बधाई...

खबरों की दुनियाँ ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति ।

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

श्याम के प्रेम में डूब कर लिखी गई रचना.. भक्ति रस में हमें भी डूबा गई..

amrendra "aks" ने कहा…

waah vandana ji bahut sunder rachna

rashmi ravija ने कहा…

एक बार फिर से..श्याम-प्रेम में विभोर रचना , मन आह्लादित कर गयी

manav vikash vigyan aur adytam ने कहा…

sundar rachana