पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 10 मार्च 2013

तो प्रश्न उठता है फिर पैदा ही क्यों किया वो बीज ????????


जग नियंता
नियंत्रित किये है
सारी सृष्टि
मगर "मैं" अनियंत्रित है
अस्फुट है
बेचैन है
खानाबदोश ज़िन्दगी आखिर
कब तक जी सकता है
हाँ ........."मैं" वो ही
जिसका अंकुर
सृष्टि के गर्भ में ही उपजा था
और बह रहा है
तब से निरंतर
अपने साथ काम ,क्रोध और लोभ
की आंधियां लेकर
और देखता है जहाँ भी उपजाऊँ भूमि
बीज रोपित कर देता है
जो वटवृक्ष बन पीढियां तबाह कर देता है
युगों को अभिशापित कर देता है
और आने वाली पीढियां
उसे ढ़ोने को मजबूर हो जाती हैं
क्योंकि "मैं" रुपी
चाहे रावण हो या कंस या दुर्योधन
हमेशा युगों पर प्रश्नचिन्ह छोड़ गया
जिसकी सलीब आज भी
सदियों से ढ़ोती पीढियां
उठाने को मजबूर हैं
क्योंकि नहीं मिल रहा उन्हें
अपने प्रश्नों का सही उत्तर
नहीं हुई ऐसी खोज जो कारण
की जड़ तक जा सके
बस लकीर के फकीर बने
सवालों को गूंगा किये
हम एक अंधी दौड़ में चल रहे हैं
और कोई यदि सवाल करे
तो उसे ही पागल घोषित कर रहे हैं
ऐसे में "मैं" तो पोषित होना ही है
क्योंकि उसके पोषक तत्त्व तो यही हैं
क्या "मैं " को ज़मींदोज़ करने के लिए
हर बार प्रलय जरूरी है ?
ये "मैं" की परिपाटी बदलने के लिए
क्या उसकी टहनी के साथ
दूसरी शाखा नहीं जोड़ी जा सकती
जो "हम" के फूलों से पल्लवित हो
और सृष्टि कर्ता का सृजन सफल हो
या ये उसकी सरंचना का वो छेद है
जिसे वो स्वयं नहीं भरना चाहता
क्योंकि
मदारी के खेल में बन्दर को तो सिर्फ उसके इशारों पर नाचना होता है
जो ये नहीं सोच पाता
क्या असर पड़ेगा इसका द्रष्टा पर
फिर सुना है
सृजनकर्ता को नहीं पसंद
"मैं" का अंकुर
तो प्रश्न उठता है फिर पैदा ही क्यों किया वो बीज ??????????

7 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

संवाद और प्रश्न निष्कर्ष अवश्य पायेंगे।

शालिनी कौशिक ने कहा…

."महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें" आभार मासूम बच्चियों के प्रति यौन अपराध के लिए आधुनिक महिलाएं कितनी जिम्मेदार? रत्ती भर भी नहीं . .महिलाओं के लिए एक नयी सौगात WOMAN ABOUT MAN

दिनेश पारीक ने कहा…

बहुत सार्थक प्रस्तुति आपकी अगली पोस्ट का भी हमें इंतजार रहेगा महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाये

आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
अर्ज सुनिये

कृपया आप मेरे ब्लाग कभी अनुसरण करे

mark rai ने कहा…

सुंदर अभिव्यक्ति....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

श्री ग़ाफ़िल जी आज शिव आराधना में लीन है। इसलिए आज मेरी पसंद के लिंकों में आपका लिंक भी सम्मिलित किया जा रहा है।
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (11-03-2013) के हे शिव ! जागो !! (चर्चा मंच-1180) पर भी होगी!
सूचनार्थ!

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

sahi baat

दिगम्बर नासवा ने कहा…

प्रभावी ... वाजिब प्रश्न करती रचना ...