पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 11 अप्रैल 2013

राधे राधे तेरे दर्शन को हम हैं प्यासे

 
 
राधे राधे तेरे दर्शन को हम हैं प्यासे
जल्दी आ मन उपवन मे ………नैना भये उदासे
साथ मे मोहन को भी लाना
हिल मिल फिर बंसी बजाना
करो कलोल मिल बांके
राधे राधे तेरे दर्शन को हम हैं प्यासे



मेरे मन मधुबन मे डेरा लगाना
श्याम के संग रास रचाना
मुझे भी अपनी सखी बनाना
मधुर रस बरसा के
राधे राधे तेरे दर्शन को हम हैं प्यासे



अव्यक्त को व्यक्त कर जाना
मुझे भी अपना दरस कराना
प्रेम रस ज़रा छलकाना
प्रेम सुधा के हम प्यासे
राधे राधे तेरे दर्शन को हम हैं प्यासे




12 टिप्‍पणियां:

दीपक बाबा ने कहा…

राधे राधे -
शाम मिला दे

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आलोकिक प्रेम रस में डूबी सुन्दर रचना ...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

जय जय राधे

शालिनी कौशिक ने कहा…

नवसंवत्सर की बहुत बहुत शुभकामनायें नरेन्द्र से नारीन्द्र तक .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MANजाने संविधान में कैसे है संपत्ति का अधिकार-1

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

भक्ति रस से परिपूर्ण सुंदर रचना

Kalipad "Prasad" ने कहा…

जय जय राधे रटते जा ,प्रेम का रस पीते जा
latest post वासन्ती दुर्गा पूजा
LATEST POSTसपना और तुम

VIJAY KUMAR VERMA ने कहा…

बहुत ही उम्दा कविता

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
नवरात्रों और नवसम्वतसर-२०७० की हार्दिक शुभकामनाएँ...!

Surendra shukla" Bhramar"5 ने कहा…

आदरणीया वंदना जी जय श्री राधे
मेरे मन मधुवन में डेरा लगाना मन आनंदित हुआ ..सुंदर

आभार
भ्रमर५

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

वाह! बहुत खूब | अत्यंत सुन्दर मनभावन भक्तिपूर्ण रचना | जय श्री राधे | नवरात्री और नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें |

कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
Tamasha-E-Zindagi
Tamashaezindagi FB Page

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

वाह! बहुत खूब | अत्यंत सुन्दर मनभावन भक्तिपूर्ण रचना | जय श्री राधे | नवरात्री और नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें |

कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
Tamasha-E-Zindagi
Tamashaezindagi FB Page