पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 26 दिसंबर 2013

प्रेम की चरमोत्कर्ष अवस्था

प्रेम तो है ही शांति का प्रतीक और जो प्रेम का महासागर है, जिससे प्रेम उपजता है एक बूँद के रूप में वो कैसे स्वीकार सकता है एक कंकड की भी हलचल या एक लहर की तरह उछाल लेना……सत्यम शिवम सुन्दरम का आकार पाने के लिये , निराकार से एकाकार होने के लिये , हर तरंग का शांत होना जरूरी है तभी संभव है सम्पूर्ण प्रेम को पाना जहाँ कोई जल्दी नहीं , कोई वेग नहीं , कोई प्रवाह नहीं ………होती है तो एक अजस्र धारा सिर्फ़ बहती हुयी और उसमें चाहे जो समाये वो ही हो जाता है ………निर्द्वन्द, निर्विकल्प, निराकार …………प्रेम जिसका कोई आकार नहीं मगर फिर भी होता है साकार………प्रेमी के लिये उसके प्रेम के लिये उसको पूर्णता प्रदान करने के लिये…………प्रेम की गरिमा और  भंगिमा को छूना सबके लिये संभव नहीं …………बस खुदी को मिटाना और निशब्द हो जाना ही तो प्रेम को पाना है …………क्योंकि मौन में ही तो प्रेम भासता है।

प्रेम को खोजन जो प्रेम चला ……बस प्रेम प्रेम प्रेममय हो गया………प्रेम मे होना होता है ………खोजना नहीं …………प्रेम खोजने से परे की विषय वस्तु है…………प्रेम जितना सरल है उतना ही गूढ ………तात्विक विवेचन संभव ही नहीं ………तभी तो प्रेमपंथ सबसे कठिन कहा गया है क्योंकि जिसकी कब चाल बदल जाये पता ही नहीं चलता कभी मीरा बना देता है तो कभी मोहन …………और कभी दर दर का भिखारी एक अपनी ही अलख जगाता ………व्याख्यातित करने चलोगे तो कुछ नहीं मिलेगा वो ही कोरे का कोरा मिलेगा अंत में …………बस एक धुन बजाओ और डूब जाओ बिना जाने उसका उदभव कहाँ है, बिना जाने उसका अंत कहाँ है ………विवेक पर पट्टी बाँध जिसने चोला रंगा है वो ही प्रेम को जाना है और जिसने तार्किक शास्त्र गढा है उसने सिर्फ़ शोध किया है प्रेम नहीं और प्रेम शोध का विषय नहीं…
लेन देन के व्यापार से परे की स्थिति है प्रेम, हर चाह के मिटने की स्थिति का नाम है प्रेम, सर्वस्व समर्पण करने का नाम है प्रेम।जो करने से हो वो प्रेम नहीं ……ये तो स्वत:स्फ़ूर्त अनुभूति है , अजस्र बहती धारा कब किसे कैसे अपने साथ बहा ले जाती है पता नहीं चलता इसलिये कौन प्रेमी और कौन प्रेमास्पद्………हर भेद का मिट जाना ही प्रेम की चरमोत्कर्ष अवस्था है ।

5 टिप्‍पणियां:

Shikha Gupta ने कहा…

सच है प्रेम पर शोध नहीं किया जा सकता ये तो विश्वास की बात है
बहुत सुंदर रचना ...

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन अमर शहीद ऊधम सिंह ज़िंदाबाद - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (27-12-13) को "जवानी में थकने लगी जिन्दगी है" (चर्चा मंच : अंक-1474) पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

क्या बात वाह! अति सुन्दर

तीन संजीदा एहसास

Vaanbhatt ने कहा…

बहुत खूब...