पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 8 मार्च 2011

कान्हा कान्हा
मै जोगन बन जाऊंगी
तेरे प्रेम मे
मै जोगन बन जाऊँगी

श्याम प्यारे मोहन प्यारे
रटती रही नाम तुम्हारे
अब तुम बिन कटते नही
दिन रैन हमारे
इक बार आ जाओ
मोहन प्यारे
गले से लगा जाओ
श्याम सखा रे
कान्हा कान्हा
मै जोगन बन जाऊंगी


कर में लेकर इकतारा
प्रेम दीवानी मीरा बन जाऊँ
श्याम नाम की रटना लगाऊं
श्याम धुन में हो मतवाली
गली गली नाचूं
बन श्याम दीवानी
कान्हा कान्हा
मैं जोगन बन जाउंगी



15 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

भक्ति रस से सराबोर रचना ...

रश्मि प्रभा... ने कहा…

mann magan hua , kanha kanha hua

Rakesh Kumar ने कहा…

वाह ! वाह ! वंदनाजी भक्ति रस से सराबोर कर दिया.चलिए सब मिल के गायें

"श्याम नाम की रटना लगाऊं
श्याम धुन में हो मतवाली
गली गली नाचूं
बन श्याम दीवानी
कान्हा कान्हा
मैं जोगन बन जाउंगी"
शुद्ध भक्ति-रस आ जाये जीवन में ,तो सफल ही हो जाये ये जीवन.

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

भक्ति और प्रेम में सरोबार रचना... आज विश्व महिला दिवस पर प्रेम और भक्ति का समन्वित रूप आपकी कविता को खास बना रही है.. बहुत बढ़िया...

राज भाटिय़ा ने कहा…

वाह आज तो भजन का रुप दे दिया आप ने इस रचना को, बहुत सुंदर

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

भक्तिपूरित अभिव्यक्ति।

मनोज कुमार ने कहा…

आध्यात्मिक अभिव्यक्ति।

ZEAL ने कहा…

सुन्दर मासूम प्रस्तुति , बेहद अच्छी लगी ।

ZEAL ने कहा…

वैसे यदि इसका शीर्षक - " जोगन बन जाउंगी , कान्हा तोरे कारण " हो तो कैसा रहे ?

दिगम्बर नासवा ने कहा…

उसका तो वैसे भी हर कोई दीवाना है ... आपने भी अपने अंदाज़ से उसे याद किया है ... जय श्री कृष्ण ...
.

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

Ati sundar.
---------
पैरों तले जमीन खिसक जाए!
क्या इससे मर्दानगी कम हो जाती है ?

मदन शर्मा ने कहा…

भक्ति रस से सराबोर बहुत सुंदर
रचना ...

शोभना चौरे ने कहा…

श्रीकृष्ण :शरणम मम :

Babli ने कहा…

मैं पिछले कुछ महीनों से ज़रूरी काम में व्यस्त थी इसलिए लिखने का वक़्त नहीं मिला और आपके ब्लॉग पर नहीं आ सकी!
बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना प्रस्तुत किया है आपने! बढ़िया लगा!

डॉ. हरदीप संधु ने कहा…

वाह..क्या खूब लिखा है आपने।