पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

बुधवार, 2 अगस्त 2017

अब तुम्हारी बारी है ...

तुम थे
तो जहान में सबसे धनवान थी मैं
अब तुम नहीं
तुम्हारी याद नहीं
तुम्हारा ख्याल तक नहीं
तो मुझ सा कंगाल भी कोई नहीं

वो मोहब्बत की इन्तेहा थी
ये तेरे वजूद को नकारने की इन्तेहा है
जानते हो न
इसका कारण भी तुम ही हो
फिर निवारण की गली मैं अकेली कैसे जाऊँ?

मुझे जो निभाना था , निभा चुकी
सच और झूठ के पलड़ों में
तुम्हारे होने और न होने के पलड़ों में
अब तुम्हारी बारी है ... यदि हो तो ?

आस्था विश्वास और अविश्वास के मध्य
महीन सी लकीर
तुम्हारा कथ्य तोल रही है

जानते हो न
बदले बेशक जाएँ
टूटे तार फिर जुड़ा नहीं करते ...


2 टिप्‍पणियां:

Digamber Naswa ने कहा…

गहन रचना ... मन को सोचने पे विवश करती ...

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (04-08-2017) को "राखी के ये तार" (चर्चा अंक 2686) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'